मातृ वंदना – भारतीय स्ववंत्रता दिवस पर साक्षी श्री का सन्देश

आज 74 वर्षों बाद हमें व्यक्तिगत रूप से और राष्ट्र के लिए सामूहिक रूप से नए लक्ष्य निर्धारित करने का समय आ गया है। बिना सपने के, बिना लक्ष्य के जीवन जीने लायक नहीं है। निस्संदेह हमारा सामूहिक सपना एक समृद्ध, शक्तिशाली, जागृत भारत है। इस सपने को पूरा करने में सभी का योगदान अपेक्षित है। लेकिन पश्चिम की अंधी नकल से बचना है। अपनी जड़ों को याद रखें।

Continue Readingमातृ वंदना – भारतीय स्ववंत्रता दिवस पर साक्षी श्री का सन्देश